जब सिरफिरे भाई ने अपनी ही बहन को जिंदा जला डाला

0
44
File photo of Sanjali
File photo of Sanjali

आगरा के लालऊ गांव में 18 दिसंबर को 10 वीं की छात्रा संजलि को जिंदा जलाकर मार दिया गया घटना का पुलिस ने आठवें दिन मंगलवार को खुलासा कर दिया। छात्रा की मौत के बाद खुदकुशी कर लेना वाला उसका तहेरा भाई योगेश ही मास्टरमाइंड निकला। 

उसके सिर इश्क का जुनून सवार था, जबकि संजलि ने उससे बात करने तक से इंकार कर दिया था। यह तक कह दिया था कि तुम भाई कहलाने के लायक नहीं हो। इसी से आहत होकर उसने दो रिश्तेदार युवकों के साथ मिलकर वारदात को अंजाम दिया।

पुलिस ने दोनों आरोपियों आकाश और विजय को गिरफ्तार कर लिया। योगेश ने इन्हें 15-15 हजार रुपये देने का लालच देकर वारदात में शामिल किया था। इनसे हत्या में इस्तेमाल की दो बाइक, दो हेलमेट बरामद हो गए हैं। इन्होंने बताया है कि योगेश ने क्राइम सीरियल देखकर साजिश रची।

23 नवंबर को संजलि के पिता हरेंद्र पर हमला हुआ था। संजलि को लगा कि हमला योगेश ने करवाया है। उसने व्हाट्स ऐप पर मैसेज में लिख दिया था, यू आर लूजर। यह मैसेज देख मानो योगेश में नफरत की आग सी भड़क गई और उसने संजलि को जिंदा जलाने की ठान ली।

File photo of Yogesh
File photo of Yogesh

संजलि के स्कूल के पास यह वारदात हुई तारीख 18 दिसंबर के सीसीटीवी फुटेज में योगेश, विजय और आकाश बाइक से संजलि के पीछे जाते नजर आए। इसी से पुलिस को सुराग मिल गया। आकाश और विजय से पूछताछ की तो खुलासा हो गया।

यह थी वारदात

लालऊ गांव में 18 दिसंबर की दोपहर स्कूल की छुट्टी के बाद घर लौटती 10 वीं की छात्रा संजलि को रास्ते में पेट्रोल डालकर जला दिया गया था। उसने 19 की रात दो बजे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में दम तोड़ दिया। 20 की सुबह साढ़े छह बजे उसके तहेरे भाई योगेश ने लालऊ में घर में जहर खा लिया। अस्पताल में उसकी मौत हो गई।

इस संबंध में एसएसपी अमित पाठक ने बताया कि संजलि की हत्या का मास्टरमाइंड योगेश ही था। आकाश और विजय घटना में शामिल रहे। उनके खिलाफ तमाम सबूत भी मिले हैं। 

ये भेजे गए जेल

  • विजय पुत्र राजकुमार निवासी कलवारी, जगदीशपुरा (योगेश के मामा का बेटा है, बढ़ई का काम करता है)
  • आकाश पुत्र विज्जो सिंह निवासी मनिया, मलपुरा, हाल निवासी लखनपुर, शास्त्रीपुरम (विजय की बहन का देवर है, बढ़ई का काम करता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.