होमभारतक्या सच में चूहों से आया ओमिक्रॉन, जानें यहाँ

क्या सच में चूहों से आया ओमिक्रॉन, जानें यहाँ

देश और दुनिया में कोरोना (Corona) का ओमिक्रॉन वेरिएंट (Omicron Variant) कहर मचा रहा है. यह अब तक के सभी वेरिएंटों में सबसे तेजी से लोगों को संक्रमित कर रहा है. हालांकि पक्के तौर पर अभी इसके विषय में कुछ नहीं कहा जा सकता है लेकिन कुछ वैज्ञानिकों ने इस थ्योरी को जन्म दिया है कि ओमिक्रॉन संभवतः चूहों (Rodents) से इतना ज्यादा फैला. 24 नवंबर 2021 को दक्षिण अफ्रीकी वैज्ञानिक ने SARS-CoV-2 के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन को खोजने का दावा किया था. उहोंने बताया था कि यह वेरिएंट देश के दक्षिणी हिस्सों में बहुत तेजी से फैल रहा है और अब तक के सभी वेरिएंट के मुकाबले यह वेरिएंट सबसे ज्यादा संक्रामक है. तब से लेकर अब तक ओमिक्रॉन दुनिया के लगभग सभी देशों को अपनी चपेट में ले लिया है और भारी तबाही मचा रहा है.

ओमिक्रॉन को लेकर तीन थ्योरी

ओमिक्रॉन की उत्पत्ति को लेकर वैज्ञानिक तीन तरह की थ्योरी पर विचार कर रहे हैं. ये तीन थ्योरी हैं-

1. ओमिक्रॉन वेरिएंट दुनिया में शायद ऐसी जगह से विकसित हुआ है जहां COVID-19 से निपटने के संसाधन बहुत कम थे और इसकी निगरानी प्रक्रिया भी बहुत ढीली थी.
2. दूसरी थ्योरी के मुताबिक ओमिक्रॉन किसी ऐसे व्यक्ति में विकसित हुआ होगा जिसमें असामान्य रूप से बहुत लंबे समय तक संक्रमण रह गया होगा और उसकी प्रतिरक्षा प्रणाली से तालमेल बिठा लिया होगा. ऐसा शायद तब हुआ होगा जब व्यक्ति एचआईवी से पीड़ित रहा होगा या इम्यूनिटी संबंधी बीमारी को इलाज करा रहा होगा.
3. तीसरी थ्योरी में कहा गया है कि ओमिक्रॉन इंसानों में आने से पहले किसी जानवरों के समूह में विकसित हुआ होगा.

 Omicron News Update

चूहों में इसी तरह का म्यूटेशन मिला

इधर चाइनीज एकेडमी ऑफ साइंस के शोधकर्ताओं ने अपनी रिसर्च में दावा किया है कि हो सकता है कि ओमिक्रॉन चूहों के असामान्य म्यूटेशन के बड़े कलेक्शन से विकसित हुआ हो. चीनी वैज्ञानिकों का मानना है कि इससे पहले के वेरिएंट का लीनिएज या स्ट्रेन B.1.1 साल 2020 के मध्य में इंसान से चूहों में गया होगा. इसके बाद समय के साथ यह खुद को अनुकूल बनाया होगा और 2021 के आखिर में फिर से इंसानों में प्रवेश कर गया होगा. चीनी वैज्ञानिकों ने ओमिक्रॉन के आरएनए से 45 प्वाइंट म्यूटेशन की खोज की है. उनका मानना है कि ये म्यूटेशन इंसानों ने अपने आखिरी ज्ञात पूवर्ज से प्राप्त किए हैं. इससे पहले के अध्ययन में कहा गया है कि आरएनए के इस प्वाइंट म्यूटेशन में ज्यादा म्यूटेट करने की क्षमता है.

Anoj Kumar
Anoj Kumar a Indian Journalist & Founder Of Hnews

Must Read

Related News