होमलाइफस्टाइलकोरोना वैक्सीन अपडेट: रूस जल्द ही एक और वैक्सीन लॉन्च करने की...

कोरोना वैक्सीन अपडेट: रूस जल्द ही एक और वैक्सीन लॉन्च करने की तैयारी कर रहा है

रूस ने एक और वैक्सीन विकसित की है, जो दुनिया भर में कोरोना का पहला टीका है। इस वैक्सीन को जल्द ही लॉन्च करने का दावा किया जा रहा है। इस टीके को रूस के पहले टीके की तुलना में अधिक सुरक्षित कहा जाता है। खबरों के मुताबिक, स्पुतनिक-वी के वैक्सीन लगाने के बाद लोगों ने जो दुष्प्रभाव देखे, नए टीकों की खुराक उतनी नहीं होगी। वैक्सीकॉना नाम की वैक्सीन को वेक्टर स्टेट रिसर्च सेंटर ऑफ विर्रो और बायोटेक्नोलॉजी के सहयोग से विकसित किया गया है।

रिपोर्टों के अनुसार, इस दूसरे रूसी वैक्सीन में इस्तेमाल होने वाली दवाओं को रूस के शीर्ष-गुप्त संयंत्र के साथ खट्टा किया गया है। वैक्सीन का नाम एपीवीकोकोरोना है और इसका परीक्षण सितंबर में पूरा होने की उम्मीद है। वैक्सीन का पहला परीक्षण 57 स्वयंसेवकों पर किया गया था।

इस वैक्सीन को वेक्टर स्टेट रिसर्च सेंटर ऑफ वायरोलॉजी एंड बायोटेक्नोलॉजी के साथ मिलकर तैयार किया गया है। यह दुनिया के दो प्रमुख संस्थानों में से एक है जिसमें चिकनपॉक्स का सबसे बड़ा भंडार है। वैक्सीन के लिए दवा साइबेरिया में सोवियत बायोलॉजिकल वेपन्स रिसर्च प्लांट से ली गई है।

वैज्ञानिकों का दावा है कि जिन स्वयंसेवकों को टीका लगाने की कोशिश की गई थी, उन्हें 23 दिनों के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया था। परीक्षण के दौरान उसकी जांच की गई। वैज्ञानिकों का लक्ष्य प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को देखना था। इसके लिए 14 से 21 दिनों में स्वयंसेवकों को वैक्सीन की दो खुराक दी गई।

अक्टूबर में पंजीकरण और नवंबर में उत्पादन

उम्मीद है कि सितंबर में ट्रायल पूरा होने के बाद अक्टूबर में वैक्सीन को पंजीकृत किया जाएगा, जबकि वैक्सीन का उत्पादन नवंबर से शुरू किया जाएगा। वैक्सीन का दावा है कि अब तक किए गए परीक्षणों में कोई दुष्प्रभाव नहीं देखा गया है। यह ज्ञात है कि सोवियत जैविक हथियार अनुसंधान संयंत्र और वेक्टर रिसर्च सेंटर ने अब तक १३ कोरोना वैक्सीन्स पर एक साथ काम किया है। उनके जानवरों का परीक्षण किया गया। वेक्टर रिसर्च सेंटर के सहयोग से औद्योगिक स्तर पर चेचक के टीके भी बनाए गए। पिछले कुछ वर्षों में, रूस ने इस संस्थान के साथ, बुबोनिक प्लेग, इबोला, हेपेटाइटिस-बी, एचआईवी, सार्स, और कैंसर के एंटीडोट्स का उत्पादन किया। इस टीका से पहले, ११ अगस्त को रूस ने पंजीकरण कराकर कई देशों को चौंका दिया था। दुनिया का पहला कोविद -19 टीका ‘स्पुतनिक-वी’। हालांकि, रूसी रक्षा मंत्रालय और गमालया रिसर्च सेंटर द्वारा तैयार वैक्सीन, पंजीकृत होते ही विवादों में घिर गया। हालांकि, रूस ने आरोपों से इनकार किया है और कई देशों के साथ इसे बनाने और विपणन करने की प्रक्रिया में है।

Must Read

Related News

error: Content is protected !!