होमभारतChina-India Military Talk: भारत से क्‍यों इतना चिढ़ा हुआ है चीन, जानें...

China-India Military Talk: भारत से क्‍यों इतना चिढ़ा हुआ है चीन, जानें यहाँ एक्सपर्ट की राय

भारत और चीन के बीच 12 जनवरी (बुधवार) को एक अहम सैन्‍य वार्ता होने वाली है। इसका मकसद दोनों देशों के बीच सीमा पर बने गतिरोध को खत्‍म करना है। हालांकि चीन के अडि़यल रवैये की वजह से अब तक सीमा पर गतिरोध जारी है। इसके अलावा चीन लगातार ऐसी गतिविधियों को अंजाम देने में लगा है जिसकी वजह से हालात लगातार खराब हो रहे हैं। आपको बता दें कि पिछले दिनों ही चीन ने अरुणाचल प्रदेश के कुछ इलाकों का नाम अपने हिसाब से बदल दिया था। हालांकि भारत ने इस पर न केवल कड़ी आपत्ति जताई थी बल्कि ये भी कहा था कि जम्‍मू कश्‍मीर की ही तरह अरुणाचल प्रदेश भी भारत का अभिन्‍न हिस्‍सा है। वहीं चीन का कहना है कि ये पूर्वी तिब्‍बत का हिस्‍सा है जो चीन के इलाके में आता है।

बहरहाल, बुधवार को जो बैठक दोनों सेना के वरिष्‍ठ अधिकारियों के बीच होने वाली है उसमें भारत का जोर हाट स्प्रिंग, डेप्‍सांग और डेमचोक में मई 2020 से पूर्व की स्थिति दोबारा करने पर होगा। भारत ने इस बात की भी उम्‍मीद जताई है कि इस बैठक में कोई नतीजा निकल सकेगा। आपको यहां पर ये भी बता दें कि इससे पहले देानों सेना के अधिकारियों के बीच 10 अक्‍टूबर को 13वें दौर की सैन्‍य वार्ता हुई थी जिसमें चीन के अडि़यल रवैये की वजह से किसी नतीजे पर नहीं पहुंचा जा सका था। यही वजह है कि बुधवार को होने वाली सैन्‍य वार्ता को काफी अहम माना जा रहा है।

China-India Military Talk

ये बैठक चशुल-मोल्‍डो पर होगी। इस बैठक में 14वीं कोर के कमांडर और रक्षा और विदेश मंत्रालय के वरिष्‍ठ अधिकारी हिस्‍सा लेंगे। जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर एचएस प्रभाकर का मानना है कि चीन लगातार अपनी आक्रामकता का प्रदर्शन कर रहा है। वो न केवल भारत के साथ बल्कि दूसरे देशों के साथ भी उसका यही रवैया है। वो अपनी ताकत के सामने सभी को झुकाना चाहता है। भारत को लेकर भी वो इसी तरह की गलतफहमी का शिकार है। बीते दो वर्षों के दौरान चीन ने भारत से लगती सीमा पर काफी आक्रामकता दिखाई है। इसका उसको खामियाजा भी उठाना पड़ा है। लेकिन जरूरत उन कदमों को उठाने की है जिससे चीन इस तरह की हरकत दोबारा न कर सके। भारत पहले भी बेहद स्‍पष्‍ट तरीके से अपनी बात चीन के सामने रखता आया है। इस बार की वार्ता में भी वो ऐसा ही करेगा। भारत की कोशिश है कि हाट स्प्रिंग, डैमचोक और डेप्‍सांग के इलाके से चीन अपनी सेना को पीछे ले जाकर पहले की स्थिति बहाल करे।

Anoj Kumar
Anoj Kumar a Indian Journalist & Founder Of Hnews

Must Read

Related News