Saturday, December 10, 2022

Chandra Grahan 2022: भारत में चंद्र ग्रहण दिखने का समय और ग्रहण काल के बाद जरूर क्या करें ये काम।

- Advertisement -
- Advertisement -

सूर्य ग्रहण के बाद अब 08 नवंबर को चंद्र ग्रहण लगने वाला है. ये साल का अंतिम चंद्र ग्रहण है, जो भारत में भी दिखाई देगा. भारत में ये चंद्र ग्रहण सबसे पहले अरुणाचल प्रदेश के ईटानगर में दिखाई देगा. भारत में पूर्व दिशा के शहरों में ये चंद्र ग्रहण चंद्रोदय के साथ ही दिखने लगेगा. चूंकि ये चंद्र ग्रहण भारत में दृश्यमान होगा, इसलिए यहां सूतक काल के नियम भी लागू होंगे. चंद्र ग्रहण का सूतक 9 घंटे पहले शुरू हो जाता है.

भारत में यहां दिखाई देगा चंद्रग्रहण

भारत के अलावा ये पूर्ण चंद्रग्रहण उत्तर/पूर्वी यूरोप, एशिया, ऑस्ट्रेलिया, उत्तरी अमेरिका, दक्षिण अमेरिका के अधिकांश हिस्सों, प्रशांत, अटलांटिक, हिंद महासागर, आर्कटिक, अंटार्कटिका में दिखाई देगा। भारत में यह कोलकाता, सिलीगुड़ी, पटना, रांची और गुवाहाटी में दिखाई देगा। हालांकि, आंशिक चंद्र ग्रहण नई दिल्ली और भारत के अन्य हिस्सों में देखा जाएगा।

कहां-कहां दिखेगा पूर्ण चंद्र ग्रहण?

Chandra Grahan 2022

ये चंद्र ग्रहण ग्रहण उत्तरी पूर्वी यूरोप, ऑस्ट्रेलिया, प्रशांत महासागर और हिन्द महासागर में दर्शनीय होगा. भारत में पूर्ण ग्रहण केवल पूर्वी भागों में दिखाई देगा, जबकि आंशिक ग्रहण भारत के अधिकांश हिस्सों में दृश्यमान होगा. कोलकाता, पटना, सिलीगुड़ी, ईटानगर, रांची और गुवाहाटी में पूर्ण चन्द्रग्रहण के दर्शन होंगे.

भारत में चंद्र ग्रहण दिखने का समय

यह भले ही साल का अंतिम चंद्र व पूर्ण चंद्रग्रहण है, लेकिन भारत के सभी राज्‍यों में यह दिखाई नहीं देगा। देश की राजधानी में भी यह आंशिक रूप से दिखाई देगा। वैसे तो ये ग्रहण दोपहर को 01 बजकर 32 मिनट से लगेगा, लेकिन भारत में ये चंद्र ग्रहण शाम 5 बजकर 20 मिनट पर दिखना शुरू होगा। चंद्र ग्रहण का समापन शाम 6 बजकर 20 मिनट पर होगा। इसका सूतक 08 नवम्बर को सुबह 09 बजकर 21 मिनट पर लग जाएगा।

Chandra Grahan 2022

ग्रहण काल के दौरान सावधानियां

चंद्र दर्शन के हिसाब से शाम 05 बजकर 20 मिनट से शाम 06 बजकर 20 मिनट तक वास्तविक ग्रहण काल है. इस काल में प्रयास करें कि आप कोई आहार ग्रहण न करें. इस दौरान पूजा पाठ वर्जित है. गर्भवती महिलाएं विशेष रूप से सावधानी बरतें. भगवान की मूर्तियों की स्पर्श न करें. ग्रहण काल के समाप्त हो जाने के बाद सम्भव हो तो स्नान कर लें या हाथ पैर धोकर कुछ न कुछ चन्द्रमा की वस्तुओं का दान करें. चावल, चीनी, दूध, नारियल और चांदी का दान शुभ होगा.

चंद्रग्रहण के बाद क्या करें

चंद्रग्रहण के बाद पूजा स्थान की साफ-सफाई करें. पूजा स्थान पर गंगाजल का छिड़काव करें. स्नान करके साफ वस्त्र धारण करें. इसके बाद अपने गुरु या शिव जी की उपासना करें. फिर किसी निर्धन व्यक्ति को सफ़ेद वस्तु का दान करें.

More from the blog

बंगाल में Trinamool नेता के घर में बम विस्फोट के कारण में 3 लोगों की हुई मौत।

पश्चिम बंगाल के पूर्वी मेदिनीपुर में तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के एक नेता के घर में हुए बम विस्फोट में कम से कम तीन लोगों...

पवन सिंह का लाल घाघरा 100 मिलियन पार हो गया

पावर स्टार पवन सिंह का गाना लाल घाघरा सांग 100 मिलियन पार कर गया जब भी पवन सिंह का कोई बड़ा गाना आता है...

Sourav joshi kaise bane India ka sabse Bada vloger or par month Kitna income hai

Sorav joshi कैसे बने india का सबसे बड़ा ब्लॉगर दोस्तो कोई भी इंसान  को अपना पहचान बनाने में टाइम लगता है और उन में...

महाठग Sukesh Chandrasekhar ने Arvind Kejriwal पर लगाया गंभीर आरोप कहा- बार-बार मिल रहा हैं आम आदमी पार्टी के नेताओं से धमकियाँ।

महाठग सुकेश चंद्रशेखर ने दिल्ली के उपराज्यपाल वीके सक्सेना को एक और चिट्ठी लिखी है। सुकेश ने उसे और अपनी पत्नी को दिल्ली के...