लॉकडाउन के चलते गंगा नदी के जल की गुणवत्ता में आया सुधार

0
210

लॉकडाउन के चलते गंगा नदी के जल की गुणवत्ता में आया सुधार

कोरोनावायरस से बचने के लिए पूरे देश में लॉकडाउन चल रहा है वही लॉक डाउनके चलते कुछ अच्छे प्रभाव भी देखने को मिल रहे हैं कुछ सकारात्मक प्रभाव भी देखने को मिल रहे हैं लॉकडाउन के चलते जहां हवा साफ और शुद्ध होती जा रही है प्रदूषण कम होते जा रहा है वातावरण में CO2 की मात्रा कम होती जा रही है हवा जहरीली से सुहानी होती जा रही है वातावरण साफ व शुद्ध होते जा रहा है ग्लोबल वॉर्मिंग कम हो रही है.

कानपुर: उद्योगों और कल कारखानों के बंद होने के कारण गंगा नदी के जल की गुणवत्ता में सुधार आ रहा है वाराणसी IIT-BHU के प्रोफेसर पीके मिश्रा(PK Mishra) के अनुसार गंगा नदी के पानी की शुद्धता मैं 40 से 50% सुधार हुआ है प्रोफेसर पीके मिश्रा IIT-BHU के केमिकल इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी के प्रोफेसर हैं.

गंगाजल में फिक्कल कोलीफार्म की मात्रा का स्तर प्रति सौ एमएल में 15 हजार से घट कर 11 हजार तक आ गई है जबकि पीएच का स्तर 3.5 से अधिक हो गया है लॉकडाउन से पहले  गंगा जल के परीक्षण में यह मात्रा काफी कम थी गंगा जल में घुलित ऑक्सीजन की मात्रा प्रति लीटर तीन एमजी तक पहुंच गई है यह मात्रा एक माह पहले अस्सी संगम पर शून्य से भी नीचे चली गई थी बीओडी ( बायोकेमिकल ऑक्सीजन डिमांड) एक एमजी प्रति लीटर हो गई है.

लॉक डाउन के चलते हर व्यक्ति अपने ही घर में क्वॉरेंटाइन है लॉक डाउन के चलते उद्योग धंधे बंद हो चुके हैं कल-कारखाने बंद हो चुके हैं जिससे उद्योगों और कारखानों से निकलने वाला कचरा जो कि नदियों में छोड़ा जाता है जिसमें रसायन और कचरा अत्यधिक मात्रा में होते हैं जिससे नदियों का पानी गंदा होता जा रहा है जिससे नदियों के पानी में भी रसायन अत्यधिक मात्रा में बढ़ रहे हैं नदियों के पानी की गुणवत्ता में लगातार कमी आती जा रही है ऐसे में लॉकडाउन के चलते जहां उद्योग धंधे बंद है ऐसी स्थिति में रसायन वे औद्योगिक कचरा नदियों में नहीं डाला जा रहा है जिसके कारण नदियों के पानी की गुणवत्ता में सुधार आ रहा है और गंगा नदी का पानी साफ होते जा रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here